SEO क्या है और क्यों जरुरी है

SEO क्या है

SEO क्या है, अगर आप जानना चाहते हो, तो आज आप बिलकुल सही जगह पर आये हैं | क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम आपको SEO के बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं |

दोस्तों, एक बात तो हम सभी जानते ही हैं की कोई भी वेबसाइट या ब्लॉग तभी successful हो सकता है जब उस पर बहुत ट्रैफिक आता हो |

अब ब्लॉग पर ट्रैफिक लाने के वैसे तो बहुत सारे तरीके हैं लेकिन अगर हम Free Organic तरीके से ट्रैफिक लाने की बात करें तो उसके लिए Google से बेहतर कुछ भी नहीं |

जी हाँ, हम सब जानते हैं की आज के समय में हर रोज करोड़ों -अरबों लोग Google का प्रयोग करते हैं अपने सवालों का जवाब ढूढ़ने के लिए और जिस टॉपिक पर आपने ब्लॉग बनाया है ,लाजमी है उस टॉपिक से रिलेटेड सवाल भी कई लोग हर रोज Google पर जाकर ढूंढ़ते होंगे|

लेकिन लोग आपके ब्लॉग पर कैसे आएंगे ? वो तब आएंगे जब आपका ब्लॉग के पोस्ट Google के टॉप पोजीशन पर होगा क्योंकि जब भी कोई यूजर गूगल पर कोई query सर्च करता है तो वो ज्यादा-से -ज्यादा ऊपर के तीन ही रिजल्ट को देखते हैं और उनमे से किसी एक पर क्लिक कर देते हैं |

तो अब सवाल आता है कैसे हम अपने Blog के पोस्ट को Google के टॉप तीन लिस्ट में शामिल कर सकते हैं तो इसका जवाब है अपने ब्लॉग और पोस्ट का SEO करने के बाद और ये SEO क्या है (what is SEO in hindi) यही हम आज आपको विस्तार से बताने वाले हैं –

SEO क्या है

SEO क्या है

SEO का पूरा नाम search Engine Optimization है | SEO एक ऐसा process है जिसके जरिये हम अपने Blog पोस्ट को Google के सर्च इंजन में top पर ला सकते हैं ताकि ज्यादा -से -ज्यादा विजिटर हमारे ब्लॉग पर आ सके |

अब हमे पहले यहाँ पर समझना होगा की ये सर्च इंजन क्या है ? तभी हम SEO के इस पुरे प्रोसेस को समझ सकते हैं |

सर्च इंजन क्या है

सर्च इंजन एक तरह की डायरेक्टरी होती है जहाँ लाखो वेबसाइट का डाटा इकट्ठा होता है| मतलब की जो -जो लोग वेबसाइट बनाते हैं उन्हें अपने वेबसाइट को Google में सबमिट करना होता है जिसके लिए Google ने Google search console बनाया है |

सर्च इंजन कैसे काम करता है

कोई भी सर्च इंजन तीन स्टेप फॉलो करके काम करते हैं | crawling ,indexing और ranking दुनिया में सबसे ज्यादा लोग Google का use करते हैं इसलिए हम यहाँ पर Google के Search engine की ही बात करते हैं –

Crawling

अब google का Search engine क्या करता हैं जितनी भी वेबसाइट सबमिट है उन सबको review यानि crawl करना शुरू कर देता है| जिसके लिए उनके पास अपने आर्टिफीसियल robot होते हैं|

Indexing

अब ये आर्टिफीसियल robot क्या करते हैं उन सभी वेबसाइट को जो crawl हो चुकी हैं उन्हें अपने सर्वर में index करके रख देता है |

Ranking

इसके बाद अगला काम होता है उन robot का ये होता है की अगर कोई यूजर google के सर्च बॉक्स में कोई query सर्च करता है तो वो उन index किये वेबसाइट में उस query से रिलेटेड best वेब पेज को सर्च करे

और उन्हें quality और authority के आधार पर search engine result page (SERP) में show कर दे | इसे Ranking कहते हैं |

हालाँकि ऐसे तो गूगल ने वेबसाइट की रैंकिंग के लिए 200 फैक्टर निर्धारित किये हैं लेकिन जो बहुत ही अहम फैक्टर होते हैं उनकी बात हम नीचे इस पोस्ट में करेंगे |

तो सर्च इंजन आपने समझ लिया कैसे काम करता है साथ ही SEO भी आपने जान लिया की क्या होता है |

Online paise kaise kamaye, जानिए 10 बेहतरीन तरीकों से

इंटरनेट क्या है और इसके क्या फायदे हैं – जानिए

Digital marketing क्या है और हम कैसे सीख सकते हैं

अब हम जानते हैं की SEO कितने प्रकार का होता है जो की बहुत ही जरुरी है समझना तभी SEO आपको अच्छे से समझ आएगा |

SEO के प्रकार (SEO types in hindi )

वैसे तो SEO के बहुत से types होते हैं लेकिन जो सबसे अहम होते हैं वो तीन प्रकार के होते हैं –

1- On-Page SEO

2- Technical SEO

3- Off-Page SEO

1- On-Page SEO

जब हम ब्लॉग के हर पोस्ट को Google के Search engine के guideline के हिसाब से optimize करते हैं तो इस process को On-page SEO कहते हैं |

कुल मिलाकर On -page SEO में हम अपने Blog के डिज़ाइन और content आदि को इस तरीके से ऑप्टिमाइज़ करते हैं ताकि हमारा पोस्ट Google के सर्च इंजन में टॉप पर रैंक हो जाये |

अब On-page SEO में वो कौन -कौन से factor हैं जिनका हमे ध्यान रखना होता है ताकि हम अपने Blog का On-page SEO बेहतर तरीके से कर पाएं |

#1 – Keyword Research

On-page SEO में सबसे पहला factor Keyword Research का होता है लेकिन ये कीवर्ड क्या होता है पहले थोड़ा ये जानते हैं |

Keyword उन्ही शब्दों को कहते हैं जो लोग google Search बॉक्स में words लिखते हैं |अपने सवाल पूछने के लिए |

जैसे की मैं अगर google पर जाकर लिखता हूँ ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए तो ये एक कीवर्ड हो जाता है और जो ब्लॉग्गिंग करते हैं या वेबसाइट चलाते हैं उन्हें इन कीवर्ड को सर्च करना होता है और ये भी जानना होता है की महीने में कितने लोग इस कीवर्ड को सर्च करेंगे |

ताकि अगर मैं किसी टॉपिक के ऊपर पोस्ट लिखूं और उसका keyword research पहले करूँ तो मुझे आईडिया लग जायेगा की अगर मेरा पोस्ट गूगल पर रैंक हुआ तो कितने लोग महीने में मेरे ब्लॉग पर आ सकते हैं |

साथ ही कीवर्ड को जब आप अपने पोस्ट पर ad करते हो तो गूगल के क्रॉलर जब आपके ब्लॉग पर आएंगे तो समझ पाएंगे की ये पोस्ट इस टॉपिक के ऊपर है |

अब सवाल ये है की उन खास कीवर्ड की रिसर्च आप कैसे कर सकते हो ? तो उसके लिए paid और Free tools होते हैं यहाँ पर हम आपको फ्री टूल्स के बारे में बताते हैं –

Free keyword Research Tool

Google keyword planner

ubersuggest

Paid keyword Research Tool

Ahref

Semrush

KeywordEverywhere

#2 – Title ,Meta or Url में keyword का प्रयोग

पहले step में आपने keyword को रिसर्च कर लिया है जिसकी डिमांड है अब आपको उस keyword को अपने पोस्ट में कुछ खास जगह पर प्लेस करना होता है ताकि गूगल के क्रॉलर समझ पाए की ये पोस्ट किसके ऊपर है जिससे आपके पोस्ट को रैंकिंग में काफी हेल्प हो जाती है |

तो वो कौनसे खास जगह हैं जहाँ आपको कीवर्ड का प्रयोग जरूर अपने पोस्ट में करना है –

Post के title

Post के URL

पोस्ट के Meta Description

यही तीन जगह पर Google के क्रॉलर की नजर पड़ती है और वो जानने की कोशिश करते है की पोस्ट किस चीज़ के बारे में लिखा गया है और आपको रैंकिंग में काफी हेल्प हो जाती है क्योंकि Google के result पेज में भी यही तीन चीज़ें show होती हैं | आप ऊपर के इमेज से भी समझ पा रहे होंगे |

#3 – Heading (H1,H2) , Paragraphs में कीवर्ड का प्रयोग

आपका जो पोस्ट का Title होता है वो by default h1 Heading होता है तो उसमे तो आपको keyword का use करना ही है साथ ही जो आपके पोस्ट का H2 Heading होगा उसमे भी अपने keyword का प्रयोग करें और उसके अलावा पोस्ट के first पैराग्राफ में और Last पैराग्राफ में भी कीवर्ड को आपको insert करना है |

लेकिन दोस्तों एक बात का जरूर ध्यान रखें की ये की कीवर्ड आपको जबरदस्ती use नहीं करने बल्कि एक natural तरीके से use करने हैं |

#4 -LSI Keyword

LSI कीवर्ड होते हैं similar कीवर्ड जैसे की अगर मैं गूगल पर सर्च करता हूँ ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए तो जरुरी नहीं की सब ऐसे ही सर्च करेंगे वो ऐसे भी लिख सकते How to earn money online in hindi इसलिए हमे ऐसे similar कीवर्ड को पोस्ट में जरूर बीच में प्रयोग करना चाहिए |

ताकि सभी similar कीवर्ड पर हमारा पोस्ट रैंक हो और हमे ट्रैफिक मिले |

#5 – keyword density

आप किसी पोस्ट में कितनी बार अपने उस keyword को use करते हैं उसे keyword density कहते हैं |

अमूमन तौर पर आपने जितने word का पोस्ट लिखा है उसका 2% तक ही आपको अपना keyword का प्रयोग उसमे करना है |

लेकिन आपको ये भी ध्यान रखना है की पुरे पोस्ट में बार -बार एक ही keyword को न डालें | उससे रिलेटेड दूसरे कीवर्ड का भी प्रयोग करें क्योंकि एक ही सवाल को लोग google पर अलग-अलग तरीके से भी पूछते हैं तो आप कही-कही पर उन सामान शब्दों का भी प्रयोग करें | और साथ ही LSI keyword का भी इस्तेमाल जरूर करें |

#6 – internal और Outbound Linking

Google हमेशा उन पोस्ट को बहुत पसंद करता है जो आपस में intern- linked होते हैं मतलब की आपने पोस्ट में उसी से रिलेटेड टॉपिक के अपने ही किसी दूसरे पोस्ट को भी उसमे add किया हुआ है मतलब link किया है |जिसे Internal linking कहते हैं |

इससे user को फिर से कही और नहीं जाना पड़ता है वो एक ही पोस्ट से आपके पुरे सिमिलर टॉपिक के ब्लॉग के पोस्ट पढ़ सकता है और जानकारी ले सकता है |

दूसरा आप किसी और ब्लॉग के post का लिंक भी add कर सकते हैं जो आपके यूजर को बेहतरीन जानकारी देने में मदद करे |ऐसे outbound linking कहते हैं |

#6 – Image Optimize

आप पोस्ट में पहले तो इमेज का जरूर प्रयोग करें क्योंकि इमेज से भी यूजर को टॉपिक किस बारे में है समझने में आसानी होती है | और image से आपकी पोस्ट काफी अच्छी भी लगती है |

दूसरा Image के साइज को compress करके use करे और Image को rename करके वहां भी main keyword को डालें और पोस्ट में अपलोड करते समाय भी Alt Text में कीवर्ड का प्रयोग करें |

#7 – Quality content

ऑनलाइन बिज़नेस में वही सफल हो सकता है जिसका content में दम हो | इसलिए आप जिस भी टॉपिक पर पोस्ट लिख रहे हो उसे अच्छे रिसर्च करके लिखे ताकि आपके यूजर को सारी जानकारी आपके उस एक पोस्ट में ही मिल जाये और पोस्ट में ज्यादा कठिन शब्दों का use न करें बिलकुल simple भाषा में पोस्ट को लिखने का प्रयास करें |

पोस्ट को खुद से लिखें कही से कॉपी बिलकुल भी न करें नहीं तो आपका पोस्ट कभी भी रैंक नहीं हो पायेगा गूगल में |

2 – Technical SEO

Technical SEO जैसे की नाम से ही clear हो रहा है की इसमें हम ब्लॉग के Technical Points को ध्यान में रखते हैं और उन्हें ऑप्टिमाइज़ करते हैं जैसे की

Blog Security

Loading speed

Measure Google robots crawl and index your site more effectively

Blog Security

आजकल जैसे -जैसे ऑनलाइन बिज़नेस तरफ लोगों रुझान हो रहा है तो वहीँ आपके वेबसाइट की Security के लिए काफी खतरा बन चूका है | कहीं कोई content copy तो नहीं कर रहा है,आपके website को कोई Hack करने की कोशिश तो नहीं कर रहा है या फिर आपके ब्लॉग पर spam comments तो नहीं हो रहे हैं ये सब आपको ध्यान रखना है | इसके लिए आप wordpress पर cache plugins का use कर सकते हो |

Loading speed

अगर कोई यूजर आपके वेबसाइट के यूआरएल या पोस्ट के यूआरएल को गूगल पर क्लिक करता है तो कितनी देर में ओपन हो जाता है इस बात को google सबसे ज्यादा आजकल ध्यान में रखता है और ये उन सभी बड़े फैक्टर में से एक है जिससे आपका ब्लॉग गूगल में रैंक हो सकता है |

इसलिए आपको हमेशा अपने blog के loading time को fast रखना है मतलब की 3 से 4 सेकंड के अंदर ही आपका ब्लॉग ओपन हो जाये तो बेस्ट है |

blog की loading speed फ़ास्ट करने के लिए आप image को compress करके use करें और ज्यादा complex code वाली theme का use न करें फालतू डाटा को अपने blog से remove करें |

Measure Google robots crawl and index your site more effectively

जैसे की मैंने आपको ऊपर बताया ही है की जो भी blog या वेबसाइट बनाते हैं उन्हें उसे google में सबमिट करना होता है जिसके लिए google ने Google search console बनाया है तभी वो आपके blog के कंटेंट को रिव्यु यानि क्रॉल करेंगे उसे अपने सर्वर में लोड करेंगे और फिर आपके कंटेंट को अपने search result page में show करते हैं जिसके बाद आपको आता है ट्रैफिक |

लेकिन क्या google में आपका blog सही से सबमिट हुआ की नहीं, क्या google आपके पोस्ट को regular देख रहा है index कर रहा है की नहीं ये सब आपको देखना होता है इसलिए समय-समय google search console में अपने अकाउंट को ओपन करके डाटा को analyze जरूर करें |

3 – Off -Page SEO

अभी तक हमने SEO के दो प्रकार की बात की है, अब तीसरा प्रकार है Off -page SEO इसमें हम अपने वेबसाइट को बहार से प्रमोट करते हैं और उसकी अथॉरिटी को increase करते हैं |

जैसे On-page में हम सिर्फ Blog के अंदर कंटेंट और डिज़ाइन को ऑप्टिमाइज़ करते थे, Off-page में ठीक उसका उल्टा हम ब्लॉग के लिंक को other वेबसाइट पर add करने के साथ -साथ सोशल मीडिया में भी शेयर करते हैं |

Off -page SEO भी SEO में एक बहुत बड़ा फैक्टर है इसमें आपको अपने ब्लॉग को google में strong बनाना होता है और ये इस बात पर depend करता है की किस टाइप की वेबसाइट ने आपको किस तरीके से add किया है |

Off -page SEO में जब आप किसी दूसरे के वेबसाइट पर अपने वेबसाइट का लिंक add करते हो तो आपको दो तरह के लिंक मिलते हैं एक Do-follow और दूसरा no -follow |

Do-follow लिंक मिलने पर google के robot आपको सर्च रैंकिंग में ऊपर रखेंगे लेकिन No follow लिंक मिलने पर google के robot उसे ignore कर देते हैं |

तो आप किस -किस तरीके से अपनी वेबसाइट को किसी दूसरे वेबसाइट से add कर सकते हो या फिर वहां से लिंक ले सकते हो जिसे technically बैकलिंक लेना कहते हैं |

Guest Post

सबसे बढ़िया और पॉपुलर तरीका है बैकलिंक बनाने का guest Post | इसमें आपको अपने Blog टॉपिक से रिलेटेड उन वेबसाइट को सर्च करना है जो काफी पॉपुलर हो और वो Guest पोस्ट accept करते हो ,आपको बस उनसे कांटेक्ट करके उन्हें Guest Post के लिए कहना है और फिर उनके guideline के हिसाब से Guest post लिखकर उन्हें send कर देना है जिसके बाद वो रिव्यु करके आपके पोस्ट को पब्लिश करेंगे और आपको एक बैकलिंक भी देंगे अपने blog पर |

Blog Commenting

आप अपने पोस्ट टॉपिक से रिलेटेड किसी दूसरे बड़े Blog के पोस्ट पर एक बढ़िया सा कमेंट करते हो और वहां पर अपने पोस्ट का url भी add कर देते हो तो आपको वहां से भी backlink मिल जाता है लेकिन अधिकतर ये no -follow ही होता है लेकिन कोई नहीं आपको 100% dofollow बैकलिंक ही नहीं बनाने 20% आपको no follow का भी मिश्रण रखना है यही Google कहता है |

Web Forum

काफी सारे question -answer और discussion forum होते हैं जो आपके Topic से रिलेटेड forum हैं उन्हें ज्वाइन करे लेकिन वहां पर सिर्फ अपने वेबसाइट और पोस्ट का लिंक ही न ऐड करें| बल्कि वहां लोगों के साथ इन्वॉल्व हो question करें और जवाब दें इससे आपको काफी chances होते हैं की Do -follow लिंक भी मिले और ट्रैफिक भी |

competitor analysis

सबसे बढ़िया तरीका है बैकलिंक बनाने का की आप उन ब्लॉग के बैकलिंक को चेक करो जो आपके टॉपिक से रिलेटेड हैं और जिनके पोस्ट गूगल पर टॉप पर रैंक होते हैं फिर आप भी उन्ही की तरह बैकलिंक बनाने का प्रयास करो |

बैकलिंक चेक करने के लिए आप – Ahref , SEO REVIEW TOOLS etc का प्रयोग कर सकते हो |

Social Media

आजकल तो आपको पता ही है की google के साथ -साथ facebook,Instagram ,Twitter और linkedin कितने पॉपुलर हो चुके हैं आपको अपने ब्लॉग से रिलेटेड page इन सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी बनाना है और हर पोस्ट को यहाँ पर शेयर करना है google अब ये भी देखता है की सोशल मीडिया पर आपका blog कितना पॉपुलर है |

SEO क्यों जरुरी है

अभी तक हमने जान लिया की SEO क्या है और SEO कितने प्रकार के होते हैं लेकिन आखिर SEO करने से हमे फायदा क्या -क्या होता है आखिर ये इतना जरुरी क्यों है ? तो चलिए जानते हैं –

1 – Free Organic Traffic

सबसे पहला जो फायदा तो यही है की हम सब जानते है की आज के टाइम में Google का प्रयोग पूरी दुनिया करती है किसी भी सवाल का जवाब ढूढ़ने के लिए और जिस टॉपिक पर हमने ब्लॉग बनाया है उसे भी लाखों लोग सर्च करते होंगे गूगल पर अब जब हम अपने post का SEO कर लेते हैं तो हमारा पोस्ट google के टॉप पर आ जायेगा और फिर जब भी यूजर Google पर हमारे टॉपिक से रिलेटेड सर्च करेगा तो उसे हमारा पोस्ट show और वो उस पर क्लिक करके हमारे ब्लॉग पर आएंगे हमे मिल गया ट्रैफिक free में |

2 – Targeted Traffic

दूसरा क्योंकि उसे अपने सवाल का जवाब चाहिए इसलिए उसने हमारे पोस्ट पर क्लिक कर दिया है मतलब की हमने उसे जबरदस्ती नहीं बोला की हमारा पोस्ट पढ़ने को | उसे जरुरत है इसलिए अगर यूजर जवाब अच्छा लगा तो वो हम से जुड़ जायेगा हमारा permanent यूजर बन सकता है ये फायदा है SEO करने का सबसे बड़ा | इसके अलावा इस टाइप के प्रमोशन में कोई पैसा आपको नहीं देना बस मेहनत करनी है |

SEO करने के Techniques

अब SEO को करने के भी techniques होते हैं जिन्हे लोग अपनाते हैं उनमे main जो दो हैं उनके बारे में आपको बताता हूँ –

1 – White Hat SEO

2 – Black Hat SEO

White Hat SEO

ये techniques तो बिलकुल सिंपल है की आपको अपने ब्लॉग के कंटेंट को ठीक वैसे ही ऑप्टिमाइज़ करना है जैसे google ने अपनी guidline में कहा है |और मै भी आपको यही कहूंगा की आपको भी यही तरीका अपनाना चाहिए | जैसे Google ने कहा उसी तरीके से अपने ब्लॉग पर SEO करें |

Black Hat SEO

और जब आप Google की guidline को चकमा देकर रैंकिंग हासिल करने का तरीका अपनाते हो तो उसे Black Hat SEO कहते हैं | लेकिन इससे आपके ब्लॉग को काफी बुरा प्रभाव भी पड़ सकता है आपका ब्लॉग google पर penelize हो सकता है | इस तरीके में अमूमन लोग गलत तरीके से बैकलिंक बनाते हैं या फिर content से ज्यादा कीवर्ड को पोस्ट में add करते हैं |

SEO और SEM में क्या अंतर है

काफी बार लोग इन दो शब्दों में कंफ्यूज रहते हैं की SEO और SEM में क्या main difference होता है? तो चलो समझते हैं |

SEO

जैसे की मैंने बताया ही है की SEO (search Engine Optimization) एक तरीका है जिसके जरिये आप अपने ब्लॉग पर free में traffic google या किसी भी search इंजन से ले सकते हो इसके लिए आपको कोई इन्वेस्टमेंट नहीं करना होता है बस अपने ब्लॉग को ऑप्टिमाइज़ करना होता है सर्च इंजन के हिसाब से |

SEM

ये एक paid प्रमोशन का तरीका है जब आप google पर अपने वेबसाइट से रिलेटेड कोई ad camapaign चलाते हो जिसके लिए Google ने अपना एक platform Google Ads बनाया है और वहां पर आपको pay भी करना होता है तो इसे SEM यानि सर्च इंजन मार्केटिंग कहते हैं | तो basically ये एक ऑनलाइन paid promotion का तरीका है |

ये वीडियो हमने SidTalk यूट्यूब चैनल से लिया है

अंतिम शब्द

मुझे पूरी उम्मीद है दोस्तों की जिस आशा के साथ आप मेरे इस पोस्ट पर आये थे की मुझे SEO क्या है ये जानना है तो इस पोस्ट को पुरे अच्छे से पढ़ने के बाद आपको अच्छे से जानकारी मिल ही गयी होगी की SEO के बारे में |

अगर आपका कोई भी सुझाव या सवाल हमारे इस पोस्ट या फिर हमारे ब्लॉग के बारे में है तो आप हमे कमेंट करके जरूर बताएं |

और Blogging की दुनिया से संबधित ऐसी ही useful जानकारी पाने के लिए हमारे ईमेल newsletter को सब्सक्राइब और Facebook पेज को जरूर लाइक करें |

Deepak Bhandari

Hello friends! मै DeepakBhandari.in का फाउंडर हूँ, मुझे डिजिटल मार्केटिंग और ऑनलाइन बिज़नेस से related टॉपिक के बारे मे जानना और साथ ही उस जानकारी को लोगों के साथ शेयर करना काफी अच्छा लगता है | इस ब्लॉग के जरिये मेरी कोशिश है की आप लोग अपने बिज़नेस या करियर को ऑनलाइन grow कर पायें |

49 thoughts on “SEO क्या है और क्यों जरुरी है

  1. Hello there,
    Its really a great post. It has been documented well. The tricks which you have mentioned will surely help every blogger. I must say taking trips in a while is surely a great idea as it recharges our body and mind in order to focus more. Happy Blogging.

  2. Seo क्या होता है और Seo कैसे करें। बहुत ही अच्छे तरीके से बताया है।

  3. आपने बहुत ही बढ़िया जानकारी उपलब्ध कराई। नए ब्लॉगर के लिए बहुत ही उपयोगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link