On Page SEO क्या है और कैसे करें – जानिए

On Page SEO क्या है

On Page SEO क्या है आज के इस पोस्ट हम आपको यही जानकारी देने वाले हैं |दोस्तों वैसे तो आपको SEO के बारे में जानकारी थोड़ा बहुत जरूर होगी, की ये एक प्रोसेस के जिसके जरिये हम अपने ब्लॉग के पोस्ट को google या किसी भी सर्च इंजन में टॉप पर ला सकते हैं |

ये बात तो क्लियर है की जब हम ब्लॉग बनाते हैं और उस पर पोस्ट लिखना शुरू करते हैं तो हमे उसके बाद सबसे ज्यादा जरुरत होती है ट्रैफिक की मतलब की ज्यादा से ज्यादा लोग हमारे ब्लॉग पर आये, हमारे पोस्ट को पढ़ें |

लेकिन सवाल ये है की, ये बहुत ज्यादा ट्रैफिक वो भी फ्री में हमे कहाँ से मिल सकता है? इसका सीधा जवाब है गूगल के सर्च इंजन से जी हाँ, जब हम अपने ब्लॉग के पोस्ट का SEO अच्छे से करेंगे तो जरूर हमारा पोस्ट गूगल के सर्च इंजन में टॉप पर रैंक होगा और हमे बहुत सारा ट्रैफिक मिलना शुरू हो जायेगा |

और SEO यानि सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में On Page SEO सबसे ज्यादा Important रोल प्ले करता है|

क्योंकि गूगल के जो क्रॉलर आपके ब्लॉग के पोस्ट पर आते हैं तो वो कुछ स्पेसिफिक एरिया को देखते हैं जहाँ से उन्हें पता चलता है की ये पोस्ट इस query या कीवर्ड का जवाब दे रहा है इसलिए इसको यहाँ पर रैंक होना है |

और वो जो स्पेसफिक एरिया में आपको क्या चीज़ करनी है वही On Page SEO में आता है इसलिए On Page SEO बहुत ज्यादा इम्पोर्टेन्ट पार्ट है अगर आपको अपने पोस्ट को गूगल के टॉप पर रैंक करना है | तो चलिए जानते हैं On Page SEO क्या है |

On Page SEO क्या है

On Page SEO क्या है

जब हम हर individual वेब पेज को सर्च इंजन और यूजर के हिसाब से ऑप्टिमाइज़ करते हैं तो इस प्रोसेस को On Page SEO (On site SEO) कहते हैं | जैसे की टाइटल ,URL ,content ,internal linking आदि |

आसान भाषा में समझाऊं तो On Page SEO में हम अपने ब्लॉग के हर पोस्ट में किसी खास जगह पर कुछ ऐसे एलिमेंट्स का use करते हैं जिससे की गूगल के क्रॉलर को पता चल जाये की ये पोस्ट इस कीवर्ड या query का जवाब दे रहा है |

और इसलिए हम अपने ब्लॉग के हर पोस्ट का On Page SEO करते हैं ताकि गूगल समझ सके की हमने ये पोस्ट इस बिषय पर लिखा है और वो उसे अपने सर्च इंजन में रैंक कर पाये |

मुझे आशा है दोस्तों की आप On Page SEO को अच्छे से समझ गए होंगे| लेकिन आखिर ये इतना जरुरी क्यों है ? ये सवाल अब जरूर आपके मन में आ रहा होगा तो चलिए हम आपको इसका जवाब भी देते हैं |

On Page SEO क्यों जरूरी है

गूगल जो दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है और जो वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने का सबसे बड़ा source भी है| इसलिए हर वेबसाइट के ओनर अपने वेबसाइट या ब्लॉग को गूगल के सर्च इंजन पर टॉप पर रैंक करने के लिए दिन -रात अपने वेबसाइट पर काम करते हैं, उसे इम्प्रूव करते रहते हैं |

लेकिन गूगल उन्ही वेबसाइट को या ब्लॉग के पोस्ट को टॉप पर रैंक करता है जो उसके यूजर का बिलकुल सही और detail जवाब देते हैं क्योंकि गूगल वेबसाइट क्रिएटर के लिए नहीं बल्कि अपने कस्टमर या यूजर के बारे में ज्यादा सोचता है|

इसलिए वो time-to -time अपने guidelines जिसे आमतौर पर algorithm कहते हैं उन्हें बदलता रहता है ताकि उसका यूजर एक्सपेरिंस बेहतरीन रहे |

और यही वजह है की एक वेबसाइट ओनर या क्रिएटर के लिए अपने वेबसाइट या ब्लॉग का On page SEO करना बेहद जरुरी हो जाता है |

क्योंकि On page SEO के जरिये ही आप अपने ब्लॉग के पोस्ट को गूगल के यूजर के हिसाब से ऑप्टिमाइज़ कर सकते हो जो की गूगल को पसंद आएगा और वो आपके वेब पेज को टॉप पर रैंक करेगा |

अब बात आती है की On page SEO के वो फैक्टर क्या -क्या जो गूगल चाहता है की आपके पोस्ट या वेब पेज में हो ताकि वो आपको रैंक कर सके|आइये उन्हें विस्तार से जानते हैं |

On Page SEO कैसे करें

1 – वेबसाइट का सेटअप

दोस्तों On Page SEO में सबसे पहला फैक्टर होता है की आपके वेबसाइट/ब्लॉग की सेटिंग सही से होनी बहुत जरुरी है |

काफी सारे ब्लॉगर क्या करते हैं wordpress को इनस्टॉल करते ही उस पर थीम सेलेक्ट करते हैं और सीधे पोस्ट लिखना शुरू करते हैं ये बिलकुल गलत प्रोसेस है इससे आप कभी भी रैंक नहीं हो सकते |

WordPress install करने के बाद जरुरी Setting क्या करें- पूरी जानकारी

आपको वर्डप्रेस को इनस्टॉल करने के बाद setting> general में जाकर वेबसाइट का नाम और डिस्क्रिप्शन और इसके अलावा हर ऑप्शन को देखना है और समझकर fill करना है जैसे- permalink की भी सेटिंग आपको करनी है ,language ,timing ये सब |

इसके अलावा जरुरी प्लगइन आपको इनस्टॉल करके उनकी भी सेटिंग सेट करनी है जैसे – SEO में हेल्प के लिए आप yoast SEO या rank math,contact form ,social share plugin आदि प्लगइन को इनस्टॉल करें | |

इसके अलावा अपने ब्लॉग के main टॉपिक से रिलेटेड subtopic की एक categories बनाये जैसे अगर आप डिजिटल मार्केटिंग के ऊपर ब्लॉग बना रहे हो तो आपके categories होंगी – SEO ,wordpress ,SEM ,SMM आदि होनी चाहिए |

categories बनाना बहुत जरुरी है तभी आपके ब्लॉग का स्ट्रक्चर बनता है | बिना कैटेगरी की पता ही नहीं चलेगा न यूजर को और न गूगल को की आपके ब्लॉग पर किस -किस टॉपिक के आर्टिकल लिखा हुआ है |

कुल मिलाकर बिना वेबसाइट को पूरा सेटअप किये आपको पोस्ट लिखना शुरू नहीं करना है | नहीं तो कभी भी आपकी वेबसाइट रैंक नहीं हो पायेगी |

2 – कीवर्ड रिसर्च

new Bloggers क्या करते हैं जो भी उनके मन में होता है उस पर पोस्ट लिखना शुरू कर देते हैं | बिना ये सोचे की जो पोस्ट हम लिख रहे हैं क्या इंटरनेट पर लोग उसे पढ़ना भी चाहते हैं या नहीं |

अगर आप गूगल से ट्रैफिक चाहते हैं तो सबसे पहले आपको ये रिसर्च करना होगा की लोग मेरे टॉपिक से रिलेटेड क्या जानकारी गूगल पर खोज रहे हैं और वो लोग कितने हैं |क्योंकि तभी जब आप उस टॉपिक की जानकारी पोस्ट में लिखोगे तो उसे लोग पढ़ने आते हैं |

इसके लिए आपको कीवर्ड रिसर्च करनी पड़ती है जिसके लिए आप गूगल के auto suggestion और कुछ फ्री कीवर्ड रिसर्च टूल्स की भी मदद ले सकते हो |

3 – टाइटल ,यूआरएल और मेटा में कीवर्ड का इस्तेमाल करें

दोस्तों जब हम किसी पोस्ट को SEO के मुताबिक बनना चाहते हैं तो उसकी पहली कंडीशन यही होती है जो हमारा main कीवर्ड होता है वो हमारे पोस्ट के टाइटल ,यूआरएल और मेटा में होना बहुत जरुरी है |

क्योंकि गूगल अपने सर्च इंजन में इन्ही तीन चीज़ों को show करता है और गूगल के क्रॉलर भी सबसे ज्यादा पोस्ट में इन्ही तीन चीज़ों पर गौर करते हैं | जैसा की आप ऊपर की इमेज में देख पा रहे होंगे की इसमें SEO main कीवर्ड है जो यूआरएल,टाइटल और मेटा तीनो में दिख रहा है |

4 – पोस्ट को छोटे -छोटे पैराग्राफ में लिखें और हैडिंग में डिवाइड करके लिखें

गूगल को ऐसे पोस्ट बहुत अच्छे लगते हैं जो छोटे -छोटे पैराग्राफ बनाकर लिखे जाते हैं अधिकतम तीन ही लाइन का एक पैराग्राफ होना चाहिए क्योंकि छोटे पैराग्राफ से टॉपिक को समझने और पढ़ने में आसानी होती है |

दूसरा पोस्ट को सीधे essay जैसा न लिखें उसे Heading और subheading (h1,h2 ,h3 ) में डिवाइड करके जरूर लिखें हालाँकि इससे डायरेक्टली तो रैंकिंग में कोई असर नहीं पड़ता लेकिन इससे आपके पोस्ट का स्ट्रक्चर अच्छा बनता है जो गूगल को बहुत पसंद है और वो ऐसे पोस्ट को पहले रैंक करता है |

इसके अलावा जो आपके पोस्ट का पहला पैराग्राफ है उसमे अपने main कीवर्ड को नैचुरली रखने का प्रयास करें और इसी के साथ -साथ h2 हैडिंग में भी कीवर्ड को इस्तेमाल करें |

इसके अलावा दोस्तों पोस्ट के बीच में जहाँ पर जरुरत हो main कीवर्ड के अलावा उससे रिलेटेड कीवर्ड यानी LSI कीवर्ड का इस्तेमाल करते रहे लेकिन जबरदस्ती नहीं बल्कि एक natural way में करें |

5 – पोस्ट में इमेज को ऑप्टिमाइज़ करके इस्तेमाल करें

पहली बात तो हर पोस्ट में रिलेटेड इमेज का जरूर इस्तेमाल करें इससे आपका पोस्ट अट्रैक्टिव बनता है और दूसरा पोस्ट के alt tag और टाइटल में पोस्ट के main कीवर्ड का इस्तेमाल करें |

क्योंकि आपने देखा होगा की गूगल अपने सर्च इंजन में सिर्फ पोस्ट ही नहीं बल्कि images और वीडियोस सभी कुछ दिखाता है तो अगर आपने अपने पोस्ट इमेज को कीवर्ड से rename किया होगा तो आपके पोस्ट के साथ -साथ इमेज भी गूगल में रैंक हो जाएगी जिससे आपको और ज्यादा ट्रैफिक मिल सकता है |

6 – क्वालिटी पोस्ट लिखें

दोस्तों अपने हर पोस्ट में क्वालिटी कंटेंट दें क्योंकि दोस्तों मैंने आपको जितने भी फैक्टर ऊपर बताये आप भले ये सब कर लो लेकिन अगर आपका कंटेंट क्वालिटी का नहीं है तो आप कभी भी गूगल पर रैंक नहीं हो सकते ये आप समझ लो |

पहले समझिये क्वालिटी कंटेंट से मेरा मतलब क्या है? काफी लोग समझते हैं की किसी टॉपिक में लम्बा -लम्बा आर्टिकल लिखना ही क्वालिटी है ,बिलकुल भी नहीं ये सब गलत है |

क्वालिटी कंटेंट का मतलब है की सबसे पहले यूजर के सवाल को समझिये वो जानना क्या चाहता है फिर उसके हिसाब से अपने पोस्ट में उसे अच्छे से वो जानकारी डिटेल में दीजिये| अब चाहे वो जानकारी आपकी 1200 वर्ड में पूरी हो या फिर 2200 वर्ड में कोई फर्क नहीं पड़ता है |

लेकिन यूजर के सवाल का जवाब पूरा अच्छे से मिलना चाहिए वो संतुष्ट होना चाहिए यही मतलब होता है क्वालिटी कंटेंट का इसलिए पूरा अच्छे से रीसर्च करके ही पोस्ट लिखें और बिलकुल आसान शब्दों में लिखें |

7 – Internal और Outbound linking जरूर करें

अगर आप कोई पोस्ट लिख रहे हो और उससे रिलेटेड आपने कुछ और भी पोस्ट लिख रखें हो तो उन्हें अपने new पोस्ट में add जरूर करें जिसे हम internal linking कहते हैं |

क्योंकि इससे होता है ये है की जो यूजर आपके पोस्ट को पढ़ने आएगा अगर उसे उसी टॉपिक से रिलेटेड कुछ और भी जानकारी चाहे तो उसे वही उससे रिलेटेड पोस्ट का लिंक मिल जायेगा जिस पर यूजर क्लिक करके पोस्ट पर पहुंच जायेगा और ये सब गूगल को पसंद है इसलिए वो ऐसे पोस्ट को रैंकिंग देता भी है |

दूसरा अपने हर पोस्ट के एक आउटबाउंड यानि किसी और वेबसाइट जो आपके ही टॉपिक से रिलेटेड हो या फिर कोई वीडियो आप ऐड कर सकते हो जो की आपके पोस्ट के टॉपिक से relate करता हो, ये भी रैंकिंग में फायदा देता है |लेकिन सिर्फ एक ही आउटबाउंड लिंक दें |

8 – वेबसाइट का टेक्निकल SEO भी जरूर करें

ब्लॉग पोस्ट को सिर्फ सर्च इंजन के मुताबिक बना लेना On page SEO नहीं होता बल्कि अपने ब्लॉग के सारे टेक्निकल पॉइंट्स को भी आपको अपडेट रखना होता है अब वो टेक्निकल पॉइंट्स क्या है आइये जानते हैं |

सबसे पहले आपकी वेबसाइट रेस्पॉन्सिव Responsive) होनी चाहिए मतलब की हम आपके वेबसाइट को किसी भी डिवाइस (कंप्यूटर,लैपटॉप ,मोबाइल और टेबलेट ) में ओपन करें उसका इंटरफ़ेस आसानी से उस डिवाइस के हिसाब से बदल जाये ताकि हमे आपके वेबसाइट को चलाने में आसानी हो | गूगल इस पॉइंट को रैंकिंग में बहुत ज्यादा अहम मानता है |

दूसरा आपकी वेबसाइट गूगल द्वारा बनाये गए google search console में सबमिट होनी चाहिए क्योंकि तभी गूगल के क्रॉलर या बोट आपकी वेबसाइट पर आकर कंटेंट को क्रॉल कर पाएंगे |

Blog को Google Search Console में कैसे Add करें

साथ ही आपको अपनी वेबसाइट का sitemap बनाकर भी सर्च कंसोल में सबमिट करना होता है क्योंकि इससे काफी आसानी से गूगल के क्रॉलर आपकी वेबसाइट को समझ पाएंगे |

तीसरा और अहम पॉइंट आपकी वेबसाइट की लोडिंग फ़ास्ट होनी चाहिए मतलब की जब भी कोई यूजर आपकी वेबसाइट का यूआरएल या पोस्ट यूआरएल को टाइप करे तो बहुत फ़ास्ट आपकी वेबसाइट ओपन हो जाये और ये फैक्टर गूगल की रैंकिंग में बहुत अहम अब माना जाता है |

तो ये वो सारे फैक्टर हैं जो On Page SEO में आते हैं | अगर आप wordpress का इस्तेमाल करते हैं तो yoast SEO या Rankmath ये दो फ्री प्लगइन है जो आपके On Page SEO में मदद करते हैं आपको इन्हे इनस्टॉल करके प्रयोग करना है |

और दोस्तों मैंने एक और चीज़ देखा है की काफी सारे जो new ब्लॉगर होते हैं वो On Page SEO और Off page SEO को लेकर काफी कंफ्यूज रहते हैं तो आखिर ये दोनों एक -दूसरे से कैसे अलग हैं आइये समझते हैं –

On Page SEO और Off page SEO में क्या अंतर है

हालाँकि ये दोनों ही SEO के ही दो अहम प्रकार हैं लेकिन इन दोनों में आपस में अंतर है जो आपके लिए समझना बेहद जरुरी है |

On Page SEO जैसे की मैंने ऊपर बताया की एक प्रोसेस जिसमे हम अपने वेबसाइट के पेज को गूगल या बाकि सर्च इंजन के मुताबिक ऑप्टिमाइज़ करते हैं ताकि हमारे पोस्ट वहां पर रैंक हो सके |

basically, On Page SEO में हम वेबसाइट के अंदर ही सब कुछ changes करते हैं जैसे की वेब पेज के टाइटल ,यूआरएल और मेटा डिस्क्रिप्शन में या फिर इंटरनल लिंकिंग या इमेज ऑप्टिमाइज़ करते हैं |

लेकिन Off page SEO में हम अपनी वेबसाइट के होम पेज के यूआरएल को या फिर अपने किसी पोस्ट के यूआरएल को किसी दूसरी वेबसाइट जो की हमारी ही वेबसाइट के टॉपिक से रिलेटेड हो वहां पर add करते हैं ताकि गूगल में हमारी वेबसाइट की अथॉरिटी बढ़ जाये |

Backlink क्या है और क्यों जरुरी है

क्योंकि अगर हमारे ही वेबसाइट के टॉपिक से रिलेटेड कोई दूसरी वेबसाइट पर हमारा लिंक होता है तो गूगल समझता है ये वेबसाइट हमारे वेबसाइट को रेफर कर रहा है और वो हमारे वेबसाइट को ऑथरिटी वेबसाइट समझने लगता है जिससे हमारे पोस्ट को टॉप रैंक दिया जाता है |

कुल मिलाकर On Page SEO और off Page SEO का टारगेट एक ही की वेबसाइट को सर्च इंजन पर टॉप पर लाना|

लेकिन On Page SEO जहाँ सर्च इंजन को ये बताता है की ये वेबसाइट इस टॉपिक के ऊपर बेस्ड है तो वहीँ off Page SEO सर्च इंजन को ये बताता है की इस वेबसाइट को कितनी और वेबसाइट रेफर करती हैं मतलब की समर्थन देती हैं जिससे वेबसाइट की अथॉरिटी या वैल्यू बढ़ती है |

ये वीडियो हमने Pritam Nagrale यूट्यूब चैनल से लिया है

अंतिम शब्द

आशा है दोस्तों, पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद आपको On Page SEO क्या है ,क्यों जरुरी है और कैसे किया जाता है इसके बारे में अच्छे से जानकारी मिल गयी होगी |

अगर आपका कोई भी सुझाव या सवाल हमारे इस पोस्ट या फिर हमारे ब्लॉग के बारे में है तो आप हमे कमेंट करके जरूर बताएं |

और Blogging,SEO और डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया से संबधित ऐसी ही useful जानकारी पाने के लिए हमारे ईमेल newsletter को सब्सक्राइब और Facebook पेज को जरूर लाइक करें |

Deepak Bhandari

Hello friends! मै DeepakBhandari.in का फाउंडर हूँ, मुझे डिजिटल मार्केटिंग और ऑनलाइन बिज़नेस से related टॉपिक के बारे मे जानना और साथ ही उस जानकारी को लोगों के साथ शेयर करना काफी अच्छा लगता है | इस ब्लॉग के जरिये मेरी कोशिश है की आप लोग अपने बिज़नेस या करियर को ऑनलाइन grow कर पायें |

4 thoughts on “On Page SEO क्या है और कैसे करें – जानिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link